कौन अंगारो से बचकर के निकल जाता है SALIM RAZA REWA

ग़ज़ल
कौन अंगारो से बचकर के निकल जाता है
हांथ शोलो पे जो रखता है वो जल जाता है

ज़िन्दगी में वो बहुत आगे निकल जाता है
वक़्त के सांचे में इंसान जो ढल जाता है

आप नाकामी को किस्मत का लिखा मत कहिए
कोशिशो से तो मुक़द्दर भी बदल जाता है

मै मनाऊँ तो उसे कैसे मनाऊ या रब
मेरा महबूब तो बच्चो सा मचल जाता है

जब उठा लेती है मां हाँथ दुआ की ख़ातिर
मेरे रस्ते से तो तूफ़ान भी ट ल जाता है

कौन सी बात पे इतराये हुए बैठे हैं
शाम होते ही ये सूरज भी तो ढल जाता है

ऐसे लोगो पे ”रजा” कैसे भरोसा करलें
करके वादा जो हमेशा ही बदल जाता है

9981728122

Leave a Reply