मरा आँख का पानी

नयी चलन के इस कैफे में
शिथिल हुयीं सब धाराएँ

पियें-पिलायें, मौज उड़ायें
डाल हाथ में हाथ चले
देह उघारे, करें इशारे
जुड़ें-जुड़ायें नयन-गले

मदहोशी में इतना बहके
भूल गए सब सीमाएँ

झरी माथ से मादक बूँदें
सांसों में कुछ ताप चढ़ा
हौले-हौले अन्दर-बाहर
कामुकता का चाप चढ़ा

इक दूजे में इतना डूबे
टूटीं सब मर्यादाएँ

भैया मेरे, साधो मन को
अजब-गजब-सी यह धरती
थोड़ा पानी रखो बचाकर
करते क्यों ऑंखें परतीं?

जब-जब मरा आँख का पानी
आयीं तब-तब विपदाएँ

Leave a Reply