मन का तोता

मन का तोता बोला करता
रोज नये संवाद

महल-मलीदा-पदवी चाहे
लाखों-लाख पगार
काम एक ना वैसा करता
सपने आँख हजार

इच्छाओं की सूची लाकर
सिर पर देता लाद

अपने आम बाग के मीठे
कुतर-कुतर कर फैंके
किन्तु पड़ोसी का खट्‌टा भी
उसको ज्यादा महके

समझाने पर करता-रहता
अड़ा-खड़ा प्रतिवाद

विज्ञापन की भाषा बोले
‘यह दिल माँगे मोर’
देख-देख बौराये तोता
देता खींस निपोर

बात न मानो, करने लगता
घर में रोज फसाद

Leave a Reply