पिरामिड ।ठण्ड के प्रति।

वर्ण पिरामिड। ठण्ड के प्रति।

ये
सर्द
हवाएँ
कंपकपी
कंक शरीर
ले ठण्डी सी आह
कल ही मरा गरीब

दो
दिन
के बाद
फिर कैसे ?
क्यों खिली धूप?
विजयी सूरज
या पराजित मृत्य

@राम केश मिश्र

Leave a Reply