पगडंडी

चौड़े रस्ते पर सब चलते
पगडंडी पर कौन चलेगा?

सीधी-सादी शाखों को
मिलकर आरे छाँटें
और खुशबुओं वाले पौधे
चुन-चुन करके काटें

यों क्रूर हुए इन दाँतों की
धार मोड़ने कौन बढ़ेगा?

गाँव किनारे पेड़ों पर
कौवों को वास मिला
प्यारी कोयल-मैना को
केवल वनवास मिला

मीठे-रसमय गीत सुनाते
वनवासी को कौन वरेगा?

उड़े धरा से बहुत धुआँ
तिल-तिल सबको मारे
दुख में डूबे चमकीले
नभ के सारे तारे

चंदनवन की आग बुझाए
इन्दर राजा कौन बनेगा?

Leave a Reply