नव वर्ष

चालक- पथ की
जीवन रथ की
लेकर नव भाषाएं
आया है
नव वर्ष हमारा
जागीं सब आशाएं

नये रंगों से
रंगी ज़िन्दगी
रंगोली-सी सोहे
सात सुरों से
सजी बांसुरी
जैसे तन-मन मोहे

चलो समय का
पहिया घूमा
बदलीं परिभाषाएं!

फूल-फूल में
प्रेम बढ़ेगा
महकेगी फुलवारी
धूप-चांदनी,
बरखे बरखा
लहकेगी हर क्यारी

झोली में
सबके फल होंगे-
पूरी अभिलाषाएं!

Leave a Reply