प्यार की कसम (गीत)

प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम …..

लगता नहीं दिल कहीं अब तो
मौसम भी मुझसे खफा हों गई
मेरी ज़िंदगी अब सजा हों गई
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम ……1

उम्मीद प्यार की कर तो रहा था
सच कहते हैं तेरे लिये जी रहा था
माना कि कुछ पल दूर था तुमसे
तुझको एक पल भी भूलेंगे ना हम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम…..2

मेरी दिल की बेचैनी को
काश तुम समझी होती
दिल तोड़ के ना तू गई होती
मिल जाता जीने का सहारा वों सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम…..3

बन गई हूँ एक सूखी नदी
खबर ना रहा अब ज़िंदगी की
आ जा ना बनके धारा प्रेम की
आ लिखेंगे प्रेम कहानी हमतुम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम….4

ज़िंदगी की गलियाँ होगी गुलज़ार
तेरे लिये लेंगे जन्म सौ-सौ बार
लुटाने की तमन्ना जान तुझपे यार
ये सच हैं ख्वाब नहीं मेरे सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम ….5

आ ज़िंदगी को कर दे रोशन
सुलझा तू ज़िंदगी की उलझन
तेरी चाहत की रंग में रंगा हैं मन
तुझे क्या खबर वों बेखबर सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम….6

dushyant kumar patel

2 Comments

  1. md juber husain 26/12/2015
  2. Dushyant patel 26/12/2015

Leave a Reply