जोड़ें सभी शिराएँ

आवाजें बन
हम धरती की
अम्बर-सा फहराएँ
जीवन दें जल
बनकर मेघा
सागर-सा लहराएँ

टूटे-फूटे
बासन घर के
अपनी व्यथा सुनाएँ
और पड़ोसी
सुन-सुन करके
उन पर नित इठलाएँ

उगा हुआ है
कंटकवन जो
आओ आज जराएँ

आओ हम सब
फूल बनें या
कोयल-सा कुछ गाएँ
भोर किरण का
रूप धरें हम
तम को दूर भगाएँ

बिखरे मोती
चुन-चुन लाएँ
जोड़ें सभी शिराएँ

Leave a Reply