कुण्डलिया।महँगाई का आँच।

कुण्डलिया।महँगाई की आँच।

महँगाई की आँच है भौतिकता की ठण्ड ।
ताप रहें निर्मम दुखी कुछ तो बस पाखण्ड ।
कुछ तो बस पाखण्ड ठिठुरते पहन लबादा ।
ठण्ड भरे हुँकार कि कुहरा हुआ अमादा ।
राम ठण्ड की धूप हँसे लेती अंगड़ाई ।
होता कंक गरीब गात तापै महँगाई ।।

भारी लपटें उठ रही भीषण जले अलाव ।
महँगाई की आंच से कैसे करें वचाव ।
कैसे करें बचाव गरीबता रूपी ठण्डी ।
धुँआ उठे चहुँओर सुलगती वेबस कण्डी ।
राम” भरें हैं नयन धुंध कुहरा अंधियारी ।
एहि भौतिक सन्ताप उधर लपटें है भारी ।।

@राम केश मिश्र

Leave a Reply