रोज सवेरे चेहरा अपना

रोज सवेरे चेहरा अपना, मैं तुझमें देखा करता हूँ |
रोज सवेरे याद में तेरी , गीत नया गाया करता हूँ |
तुम जीवन की डोर हो मेरी, चाहे जैसे खीचों तुम ,
पंकज रोज सवेरे शाम , तेरा नाम जपा करता हूँ |
आदेश कुमार पंकज

Leave a Reply