मैं पशेमां हूँ …… (ग़ज़ल)

मैं पशेमां हूँ …… (ग़ज़ल)

प्यारी बिटिया दामिनी (ज्योति सिंह ) को समर्पित एक ग़ज़ल )

क्या कहूँ मेरी बेटी ! मैं बहुत परेशां हूँ ,
मिल ना सका तुझे इन्साफ ,मैं पशेमां हूँ .

तेरे गम से मेरा गम ऐ लाडो ! जुदा नहीं,
तेरे अश्को -आहों में लहू की मानिद रवां हूँ .

तेरी दर्द भरी चीखें अब भी मैं सुनती हूँ ,
जाने ज़माना क्यों हो रहा बेहरा ,हैराँ हूँ .

इन सियासत दारों को तो अपनी पड़ी है ,
इन्हें तो शर्म नहीं , मगर मैं शर्मिन्दा हूँ .

उस वेह्शी /दरिन्दे को इतनी हिफाज़त !
अंधा कानून है यह और मैं क्या कहूँ ?

हरे रह गए तेरे ज़ख्म , और रूह बेचैन ,
जो ना सिल सका में वोह तेरा चाक दामां हूँ .

तनहा -तनहा से तेरे माता-पिता , गमगीन ,
टूटे हुए ,बिखरे हुए अरमानो को लिए देख रही हूँ.

खवाब तो तूने भी देखे थे बेशुमार , ऐ दुखतर !,
मैं तेरे अधूरे ,टूटे हुए ख्वाबो का आईना हूँ .

ऐसे बेइंतेहा ज़ुल्म आखिर कब तक सहेगी बेटियां ?
आज हर इंसा के दिल से उठता मैं एक सवाल हूँ .

मौजूदा हालात से परेशां होकर पूछती है ” अनु ”
कहाँ है खुदा ! लौट आ !उससे करती मैं गुजारिश हूँ .

One Response

  1. Bimla Dhillon 24/12/2015

Leave a Reply