इजहार किया होता

प्यार का तुमने कभी भी, इजहार किया होता |
एक बार भी तुमने अगर , ऐतवार किया होता |
कर देता सर्वश्व न्यौछावर तेरे इन क़दमों में मैं,
साथ साथ चलने का अगर इकरार किया होता |
आदेश कुमार पंकज

Leave a Reply