बेमौसम बारिश ||हाइकू ||

बेमौसम बारिश ||हाइकू ||

छाया बादल
बेमौसम बारिश
त्रस्त किसान ||

टूटी उम्मीदे
बिखरे अरमान
रोये किसान ||

नष्ट फसल
आत्महत्या की साया
सर पे छायी ||

रिश्तो का मोह
प्रतिपल बढ़ती
अश्रु की धार ||

संघर्षरत
है जिंदगी यहाँ पे
क्यूँ मुह मोड़ें||

जीना है रोज
दर्द के साथ यहाँ
घबरा मत ||

होगी सुबह
उम्मीद की फिर से
धीरज रख ||

Leave a Reply