||नाबालिग ||

“कोर्ट,कचहरी का डर ना मुझको
कानून भी बेबश है मुझसे
गुनाहो का हूँ देवता मै तो
ड़रती है सारी दुनिया मुझसे
रेप करू,या मै डाका डालू
सजा ना होती है मुझको
करता हूँ मनमानी मै अपनी
डर किसी का ना होता है मुझको
सजाये माफ़ है सारी मुझको
क्यूंकि मै नाबालिग हूँ
ना डरता हूँ करने से अपराध कभी मै
क्यूंकि मै नाबालिग हूँ ..||

Leave a Reply