ख़ालीपन ये कौन भरेगा

बिना बताए
चले गए तुम
कटें नहीं दिन-रात !

रात सुहानी
महके रानी
बेला और चमेली
बिना तुम्हारे
ख़ाली-ख़ाली
लगती रही हवेली

ख़ालीपन ये
कौन भरेगा ?
किससे करते बात ?

कोमल-कोमल
दूब उगी है
मन है ओस नहाया
सोंधी-सोंधी
हवा बही है
जिसमें राग समाया

इसी राग से
आग जगी है
तपे हमारे पात !

बिना नीर के
नदिया कैसी ?
बिना चाँदनी चँदा ?
बिना प्राण के
लगता जैसे
माटी का हो बँधा !

मत तरसाओ
वापस आओ
मिलन बने सौग़ात !

Leave a Reply