किसको कौन उबारे!

बिना नाव के माझी मिलते
मुझको नदी किनारे
कितनी राह कटेगी चलकर
उनके संग सहारे!

इनके-उनके ताने सुनना
दिन-भर देह गलाना
बंधा रुपैया मजदूरी का
नौ की आग बुझाना

अपनी-अपनी ढपली सबकी
सबके अलग शिकारे!

बढ़ती जाती रोज उधारी
ले-दे काम चलाना
रोज-रोज झोपड़ पर अपने
नए तगादे आना

अपनी-अपनी घातों में सब
किसको कौन उबारे!

पानी-पानी भरा पड़ा है
प्यासा मन क्या बोले
किसकी प्यास मिटी है कितनी
केवल बातें घोले

अपनी आँखों में सपने हैं
उनकी में सुख सारे!

Leave a Reply