कब तक?

दाँव लगा कपटी शकुनी से
हार वरूँ मैं कब तक ?

विपरीत तटों का हरकारा-
सेतु बनूँ मैं कब तक ?
इनका-उनका बोझा-बस्ता
पीठ धरूँ मैं कब तक ?

बड़े-बड़े ज़ालिम पिंडों की
चोट सहूँ मैं कब तक ?

पाँव फँसाए गहरे पानी
खड़ा रहूँ मैं कब तक ?
नीली होकर उधड़ी चमड़ी
धार गहूँ मैं कब तक ?

कोई तो बतलाए आकर
यहाँ रहूँ मैं कब तक ?

रोआँ-रोआँ हाड़ कँपाती
शीत सहूँ मैं कब तक ?
बिजली, ओलों, बारिश वाली
रात सहूँ मैं कब तक ?

बहुत हुआ, अब और न होगा
धीर धरूँ मैं कब तक ?

Leave a Reply