(शायरी )

प्यार,मौहब्बत के नाम से डरते है
अपनो मे छिपे शैतान से डरते है
जिन्दगी है दरिया, एक पतवार तो चाहिए
प्यार के उठते तूफान से डरते है
********************
आखो मे भडकते अंगार से डरते है
प्रेम मे प्रेमी के दीदार से डरते है
अश्लीलता ने डस लिया है इश्क को
दरिन्दे के इश्क के अन्जाम से डरते है ।
***********************
कुटिलता रूपी चन्द्रहास से डरते है
पीठ पीछे होते उपहास से डरते है
दगाबाजी की दास्ताँए सुनी है लाखो
रिश्ते मे धोखे के इतिहास से डरते है ।

Leave a Reply