ओह मिलावट

बेरंग हुई जिन्दगी की कर लो सजावट
गम भरे लम्हों मे भी कर लो मिलावट
प्यार के नगमे है झूठे मिलता है धोखा
जुल्मो की दुनिया से तुम कर लो बगावत
जिन्दगी लेती रहेगी करवटें
दुध से वारि का संग कैसे हटे
शुद्धता दालों की भी गुम हो गई है
घी की जगह क्रीम के डब्बे सटे
संस्कारों की जो पोथी लाधे हुए है
मुखौटा सहिष्णुता का जो बाँधे हुए है
कौन है कुलीन कौन निर्लज्ज
रिश्ते तो नवीनता मे धागे हुए हैं
हवाओ मे भी घुल गई अब तो बेशर्मी
दिसंबर मे भी अब लगती है गर्मी
सतीत्व मे मिक्स हो गयी अब होट अदाएं
मिलावट ने जग मे है अब परचम लहराये
तू कितनी महान है ओह मिलावट
सब तेरे आगोश मे छिपने लगे है
शुद्धता पचती नही अब हम लोगो को
ईमान मे भी अब खोट दिखने लगे है ।