ऐसा बने सुयोग

छार-छार हो दुख का पर्वत
ऐसा बने सुयोग

गलाकाट इस कंपटीशन में
कठिन हुआ जीवित रह पाना
बचे रहे यदि जीवित तो भी
मुश्किल है इसमें टिक पाना

सफल हुए हैं जो इस युग में
ऊँचा उनका योग

बड़ी-बड़ी ‘गाला’ महफ़िल में
हों कितनी भोगों की बातें
और कहीं टपरे के नीचे
हैं मन मारे सिकुड़ी आँतें

कोई हाथ चिरौरी करता
कोई करे नियोग

भइया मेरे, पता चले तो
बतलइयो वह कला अनूठी
आस-पास अपनी धरती पर
मिल जाए करिअर की बूटी

दुआ तुम्हारे लिए करेंगे
प्रतिदिन हम सब लोग

Leave a Reply