जिंदगी हर किसी की

जिंदगी हर किसी की मिल जाती है कहानी में
वो आदमी भी सिकन्दर था कभी जवानी में

पहचानने से बज्म में इन्कार करता है उसे
खत वो अनगिनत जिसकी छुपा रखा है सिरानी में

कोई समझे कहाॅ दिल की हालात-ए-रंग क्या क्या है
जाकर देख ले हर साख को उजड़़े हुए बगानी में

मुहब्बत में बड़़े किस्से हुए इस जमीं के हर शहर में
डूबकर भी मर गए कुछ आॅख की पानी में

लवण्डर से महकते उसके लिबास भी खूब होंगे
मैं गम लिए बैठा हूं उसके इश्क़ की निशानी में

हर शख़्स है चित्रों में किरदार अपना ढूढ़ता फिरता
मैं प्रेम का प्यासा अभी खोया हुआ कबीरा की बानी में

Leave a Reply