आये बदरा छाये

बड़े दिनों के बाद गगन में
आये बदरा छाये

आते ही झट लगा खेलने
सूरज आँख-मिचौली
घुले-मिले तो ऐसे-जैसे
मिश्री के संग नैनी

बाट जोहते रहे बटोही
धूप-छाँव के साये

हुआ मगन मन गाये कजरी
गाये बारहमासी
लहकी-थिरकी है पुरवइया
देख पक्षाभ-कपासी

औचक-भौचक ढ़ोल-मजीरा
मौसम धूम मचाये

करो हरी तुम कोख धरा की
आओ बदरा बरसो
क्या रक्खा है कल करने में
या करने में परसों

उम्मीदों की फसल उगाओ
हमने दीप जगाये

Leave a Reply