चंद शे’र

कोई और तर्ज़े-सितम सोचिये।
दिल अब ख़ूगरे-इम्तहाँ हो गया॥

कब हुई आपको तौफ़ीके़-करम।
आह! जब ताक़ते फ़रियाद नहीं॥

करवटें लेती है फूलों में शराब।
हमसे इस फ़स्ल में तौबा होगी?

नहीं ऐ हमनफ़स! बेवजह मेरी गिरयासामानी।
नज़र अब वाकिफ़े-राज़े तबस्सुम होती जाती है॥

मेरी मज़लूम चुप पर शादमानी का गुमाँ क्यों हो?
कि नाउम्मीदियों के ज़ख़्म को बहना नहीं आता॥

तुझ से हयातो-मौत का मसअला हल अगर न हो।
ज़हरे-ग़मे-हयात पी मौत का इन्तज़ार कर॥

Leave a Reply