छोटा उस्ताद

लूट खसोट हो चाहे
या हो कोई चौरी चारी
नन्ही सी हो या हो बूढी
छेडउगा मै नारी सारी
शराब तस्करी
कोकेन का चसका
करू खून जो
मुझको खसका
तोडूगा कानून रोज मै
उडाऊगा इज्जत के चिट्ठे
रेप बन गया मेरा शौक अब
उम्र हाथ है मेरे पीछे
लुट मचाऊ लडकी उठाऊ
करू खून या बोम लगाऊ
कानून मेरा अंगरक्षक है
छोटा उस्ताद हू
सबका भक्षक मै
मौत मुझे नही दे पाओगे
मै नाबालिग हू बच जाऊंगा
करके तबाही मै कितनी भी
एक दिन बाहर तो आ जाऊँगा