भ्रम (हाईकू)

आधे अधूरे
स्वप्न जीवन के
प्रश्न सत्य के,

अग्नि परीक्षा
सुदीर्घ पथ पर
प्रथा विचित्र,

भोर लालिमा
कौतूहल मानक
निशा वर्जित,

प्रेम श्रृंगार
अतुलनीय सार
सुख बयार,

विविध रंग
इंद्रधनुष संग
जल तरंग,

गंगा यमुना
संगम सरस्वती
मोक्ष दायिनी,

काल गम्भीर
नेत्र राग अधीर
अश्रु या नीर,
पर्वत श्रेणी
वक्र पथ अग्रणी
वसुधा ऋणी,

शीतल जल
बहाव अविरल
ज्ञान निश्छ्ल,

भ्रम विशाल
सागर विकराल
किंतु अकाल,

……. कमल जोशी

Leave a Reply