सर झुकाऊँ कैसे,,,,,,,

दर्द कितना है इस दिल में बताऊँ कैसे ,
मुस्कुराती आँखों के आँसू दिखाऊँ कैसे,
मंज़िल सामने है मेरे, रास्ता मुश्किल बहुत,
इन मुश्किलों को राहों से हटाऊँ कैसे,
मुस्कुराती आँखों,,,,,

ज़िन्दगी दौर है अब बेबसी का ,
है बेबसी ही साथ मेरे
इन मायूस आँखों में
उम्मीदों की लौ जलाऊँ कैसे
मुस्कुराती आँखों ,,,,,

लाख घटाएँ छुपाएँ तारे आकाश में ,
कामयाबी का सितारा है मुठ्ठी में मेरे,
हूँ “अपराजिता “नहीं मैं सिर्फ नाम की,
चंद ग़मों के आगे सर झुकाऊँ कैसे
मुस्कुराती आँखों के आँसू दिखाऊँ कैसे,,,,!!!!

सीमा ” अपराजिता “

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 13/12/2015
  2. asma khan asma khan 14/12/2015
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/12/2015
  4. davendra87 davendra87 15/12/2015
  5. सीमा वर्मा सीमा वर्मा 15/12/2015

Leave a Reply