त्रिवेणी-3

तेरी यादें मिर्च की तरह तीखी हैं
जब भी आती आँखें नम कर जाती है।

रोज़ में तुमको चीनी खाके सोचता हूँ॥

परवेज़ ‘ईश्क़ी’

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 08/12/2015
    • Md. Parwez Alam 09/12/2015

Leave a Reply