आँसू

aansu2

मुझे ना निकाल मै ही तो साथी तेरा
जब जब तूमने मुझे निकाला दुनिया ने तुझे ठुकराया
मुझे छुपने दे ह्रदय में तेरे
यूँ आँखों से बाहर जाने का रास्ता ना बता
आँखों का अंजन मेरी ये लक्ष्मण रेखा
इन कपोलों को क्यों करू मै गिला बता
बह जाऊँगी बूँद बन कर, रहने दे दर्द बन कर
बन जाने दे बूँद-बूँद सागर तेरे मन में
एक दिन बहा कर ले जाउंगी दुश्मन को तेरे
आँखों में तू मुझे यूँ ना ला
बता दे दुनिया को तू नहीं अबला तू है ज्वाला
मै नहीं किसी की मंजिल
मेरा ना सहारा ले
जो हो कायर मेरा सहारा ले
मै पराजय में हूँ विजय में नहीं
मेरा ना सहारा ले …..
मेरा ना सहारा ले …..
– काजल / अर्चना

Leave a Reply