गंवारा नही….!!

पास वो भी आना चाहते है
दूरिया हमे भी गंवारा नही !
जताते हक़ हमसफर जैसा
साथ कुछ पल बिताना नही !
नजरो से चाहत के जाम छलकाते
प्रेम के दो घूँट पिलाने का वादा नही !
मोहब्बत का असर है बातो में
जाहिर करने का इरादा नही !
कभी चले दो कदम संग-संग
लगता ऐसा भी कोई इरादा नही !
अगर आती है उनको शर्म ओ हया
हम भी बेगैरत का कोई पिटारा नही !
गर वो बनते है पाकीजा की मिसाल
उसूलो से गिरना हमे भी गंवारा नही !!

!
!
!
—::—डी. के. निवातियाँ —::—

8 Comments

  1. Manjusha Manjusha 07/12/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/12/2015
  2. रै कबीर रै कबीर 07/12/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/12/2015
  3. Shishir "Madhukar" Shishir 07/12/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/12/2015
  4. RAJ KUMAR GUPTA rajthepoet 07/12/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/12/2015

Leave a Reply