आतंकवाद

आतंकवाद

शिशु दूध के लिए रोए
तो माँ के लिए आतंकवाद
दोस्त की दोस्त से अनबन हो जाए
तो दोस्तों में हो जाए आतंकवाद
एक सहेली अपनी सहेली की गुड़िया छीन ले
तो सहेलियों में हो जाए आतंकवाद
कालेज में दलबदलू हो जाए
तो कालेज में हो जाए आतंकवाद
किसी प्रतियोगिता में कोई आगे निकल जाए
तो ग्रुप में फैल जाए आतंकवाद
एक पड़ोसिन पड़ोसियों की चुगली करती रहे
तो आसपास पड़ोसियों में आतंकवाद
सास बहू की गलतियाँ निकालती रहे
तो बहू के लिए हो जाए आतंकवाद
बहू सास पर हुक्म चलाए
तो सास के लिए आतंकवाद
बाप बेटे को कुछ काम कहे
तो बेटा कहे यह है आतंकवाद
बेटा बूढ़े बाप की बात न माने
तो सारे घर में हो जाए आतंकवाद
आतंक घर घर फैल रहा
तो ऐसे फैले विश्व में आतंकवाद ====
——————————————– संतोष गुलाटी

One Response

  1. Bimla Dhillon 06/12/2015

Leave a Reply