“इंसाफ़”डॉ. मोबीन ख़ान

इंसाफ का तराजू, के नाम पर सिर्फ तराजू ही बचा।
इंसाफ को तो इसी तराज़ू में, तौलकर बेच दिया लोगों ने।।

4 Comments

  1. Bimla Dhillon 06/12/2015
    • Dr. Mobeen Khan Dr. Mobeen Khan 06/12/2015
  2. Manjusha Manjusha 06/12/2015
    • Dr. Mobeen Khan Dr. Mobeen Khan 06/12/2015

Leave a Reply