सोई जानो जगत में, उत्तम जीव सुभाग

सोई जानो जगत में, उत्तम जीव सुभाग ।
मधुर वचन निरमानता, सम दम तप बैराग ।।

सम दम तप बैराग दया हिरदे में धारैं।
मुख से बोलें सत्त सदा, न झूठ उचारैं ।।

गंगादास सुभ कर्म करें तजकर बदगोई ।
तन मन पर उपकार समझ जन उत्तम सोई ।।

Leave a Reply