शेरों में घर स्यार ने, छाया क्या है फेर

शेरों में घर स्यार ने, छाया क्या है फेर ।
पराक्रम बिन नाम से, हो नहीं सकता शेर ।।

हो नहीं सकता शेर, कभी शेरों में बसकर ।
सिंह अकेले रहें फिरें स्यारों के लश्कर ।।

गंगादास पनचास नहीं रमते बेरों में ।
मुर्दे करें तलास स्यार बसकर शेरों में ।।

Leave a Reply