विष में अमृत होत है, भगवत वर परसाद

विष में अमृत होत है, भगवत वर परसाद ।
दुश्मन मित्तरवत सबी, तपवत् सब परमाद ।।

तपवत् सब परमाद दया भगवत की जिनपै ।
सागर गो-पद-तुल्य राम राजी जिन किन पै ।।

गंगादास कहें समझ वेद ज्ञापक हैं इसमें ।
मीरा को हो गया महा अमृत रस विष में ।।

Leave a Reply