किसी ओर की माँ

किसी ओर की माँ

जब माँ की याद सताती है
उसकी हर बात याद आती है
हर कोई माँ को याद कर रोता है
लेकिन यह कभी नहीं सोचता है
तूने कभी उसको खाना खिलाया था
तूने कभी हाथों से उसको दूध पिलाया था
तूने कभी दवाई पिलाई थी
क्या कभी उसके लिए नई साड़ी खरीदी थी
या केवल कफ़न ही खरीद कर लाया है
क्या उसके जन्म दिवस पर केक काटा था
क्या कभी उसे घुमाने ले गया था
उसका टूटा चश्मा कब बनवाया था
उसकी फोटो पर फूल चढ़ाता है
उसके नाम पर ग़रीबों को खाना खिलाता है
जैसा तेरा इन्तजा़र करती थी
क्या तूने वैसा इन्तज़ार किया
अब बरसों बाद विदेश से लौटा है
वृद्धाश्रमों में अब माँ को ढूँढता है
क्या चीथड़ों में उसे पहचान पाएगा
तू उसको ऐसे देखकर शरमा नहीं जाएगा
पहचानने से इन्कार भी कर देगा
दूरकी कोई रिश्तेदार बतायगा
अगर वह गले लगाना चाहेगी
तेरी आँख नीचे झुक जाएगी
क्यों सब दिखावा करता है
क्यों उसके लिए अब रोता है
अब आँसू बहाने से कोई मतलब नहीं
अब वह नहीं है तेरी माँ
अब वह है किसी ओर की माँ

संतोष गुलाटी

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/12/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/12/2015
  3. asma khan asma khan 02/12/2015

Leave a Reply