कुछ और देर …

कुछ और देर …

रहने दो कुछ और देर
मुझे मेरे ख्वाब के साये तले
उसकी परछाँई से बात कर लूँ
बस, कुछ और देर ।

बहने दो कुछ और देर
बुलाते हैं इश्क़ के ज़लज़ले
उसके लफ़्ज़ों में भीग लूँ
बस, कुछ और देर ।

सिसकने दो कुछ और देर
फिर हो जाएंगे फ़ासले
उसके काँधे पे सर रख लूँ
बस, कुछ और देर ।

— स्वाति नैथानी

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/12/2015
    • Swati naithani Swati naithani 02/12/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/12/2015
    • Swati naithani Swati naithani 02/12/2015

Leave a Reply