एक पंछि और प्रेम

एक पंछि की हैं कहानी,
बस प्रेम को निभाना था,
टुटे हुए थे पंख उनके,
फिर भी उड़ के जाना था…
उसी रात आना था तुफान,
तुफान तो चला गया,
टुट गई वह डाली,
जिनपर उसका आसियाना था…
दिल पर था गमों का बोझ,
खुशि का तो एक बहाना था,
एक पंछि की हैं कहानी,
बस प्रेम को निभाना था,
टुटे हुए थे पंख उनके,
फिर भी उड़ के जाना था…
बस शाम ही था न हुआ सवेरा,
काली रात घंघोर अंधेरा,
एक पंख था मुरझाया,
बस एक पंख से ना उड़ पाया,
रोता रहा किस्मत पर,
फिर भी न भाग्य बदल पाया,
एक प्रेमी के खातीर,
खुद को कितना तड़पाया…
टुट गई साँसे उनकी,
फिर भी प्रेम ना निभा पाया,
एक पंछि की हैं कहानी,
बस प्रेम को निभाना था,
टुटे हुए थे पंख उनके,
फिर भी उड़ के जाना था…!!
@md.juber husain

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 02/12/2015
  2. asma khan asma khan 02/12/2015
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/12/2015