ऐसा जहां हम बनाये

मिलकर ऐसा जहां हम बनाये
दिल में खुशियों की दुनिया बसायें
जहां प्यार की बरसात हो
होठों पे दिल के जज्बात हों
हां, ऐसा जहां हम बनाये,
दिल की हर एक झील में
प्यार के कलम खिलें
नफरत न हो
एक दूजे के दिल मिलें
यूं ही जुड़ते रहें सिलसिले
हां, ऐसा जहां हम बनाये,
जिन्दगी चांदनी रात हो
फूलों की खूशबू संग
झिलमिल सितारों का साथ हो
खुशहाली की सभी दुआ करें
प्यार का हर ओर झरना झरे
हां, ऐसा जहां हम बनाये,
पर्वत यह ऊंचें ऊंचे कहें
प्यार जहां में सदा रहे
गहरे सागर की तरह
धड़कनों में प्यार गहरा रहे
हां, ऐसा जहां हम बनाये।

………….. कमल जोशी

Leave a Reply