ग़ज़ल

बेचकर जमीर को तू कोई काम न कर |
मिलकर अमीर से तू कभी नाज़ न कर |
किसी बलवान का साथ दो या न दो ,
पर दुखिया का दिल तू दुखाया न कर |
माता – पिता और गुरु उन सभी को ,
कभी भी यहाँ तू रुलाया न कर |
अपनी ख़ुशी को तुम बाँटों हमेशा ,
गम को कभी तू सुनाया न कर |
माँगना है माँग ले परवरदिगार से ,
सर आदमी के द्वार तू झुकाया न कर |
सच के साथ कर्म को करते रहो सदा ,
दूसरों की भावना का अपमान न कर |
जिन्दगी के मधुर लम्हें याद रखो तुम सदा ,
पंकज सभी रिश्तों को अब बदनाम न कर |
आदेश कुमार पंकज

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/11/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/11/2015
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/11/2015

Leave a Reply