पिता

बचपन से एक ही चाहत लिए चला हु ,
आगे चलकर तेरे जैसा बनूँगा ,
चाहे कितना ही ऊँचा क्यों न बन जाऊं,
तेरा कृतज्ञ तो हमेशा रहूँगा ,
अपनी क़ाबलियत पे तुझे तब गर्व होगा ,
जब ख्वाब तेरे होंगे और पूरा मै करूँगा |

2 Comments

  1. asma khan asma khan 29/11/2015
  2. asma khan asma khan 29/11/2015

Leave a Reply