शायरी

बैठे हुए है तेरे रूबरू ऐ ज़िन्दगी ,
तू मंज़िल लिए हुए मै हौसला लिए हुए ||

Leave a Reply