शायरी

बगावत कैसी भी हो बेखौफ होनी चाहिए ,
रास्ते कैसे भी हो एक मंज़िल होनी चाहिए ,
वक़्त एक चीज़ जरूर सीखाता है ,
हालात कैसे भी हो कदमताल होनी चाहिए ||

Leave a Reply