शायरी

माँ की लोरी से अच्छा कोई संगीत नहीं ,
पिता के जीवन से बड़ी कोई सीख नहीं ,
यु तो जंग रोज़ लड़ता हु रिश्तो से मै,
लेकिन माफ़ करने से बड़ी कोई जीत नहीं ||

3 Comments

  1. asma khan asma khan 29/11/2015
    • virendra mehta 29/11/2015
  2. asma khan asma khan 29/11/2015

Leave a Reply