शायरी

जब तक ऐब इश्क़ और इबादत कबूल नहीं होते ,
वो कामयाब नहीं होते ||

Leave a Reply