“आजकल “

होती किस्मत मेरी इन सितारों में,
तो देह मेरा पार्थिव न होता ,
डर बिकता है इन बाज़ारो में इसलिए ,
क्यूंकि मुस्कराहट का आजकल व्यापार नहीं होता ||

अगर आंकलन होता सिर्फ लिबाज़ से मेरा,
तो कफ़न का रंग कभी सफ़ेद न होता ,
बन रहा बनावटी हर चेहरा यहाँ इसलिए ,
क्यूंकि सादगी का आजकल प्रचार नहीं होता ||

होती अगर मेहर तेरी हर एक बन्दे पे ,
तो तेरे द्वार पे मैँ भूखा नहीं सोता,
सियासत होती है रोटी पे इसलिए ,
क्यूंकि गरीबी का आजकल धर्म नहीं होता ||

अगर होता इश्क़ आसान मेरे यार,
तो हीर-राँझा लैला-मजनू का चर्चा नहीं होता ,
बदल रहा हु अपना प्यार हर दिन अब इसलिए ,
क्यूंकि मोहब्बत में आजकल सब्र नहीं होता ||

अगर ले कर जा सकता धन दौलत साथ में ,,
तो मेरा कभी कोई उत्तराधिकार न होता ,
झूठ जीत रहा हर जंग यहाँ इसलिए ,
क्यूंकि सच के साथ आजकल इन्साफ नहीं होता ||

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 28/11/2015
  2. Manjusha Manjusha 28/11/2015
  3. davendra87 davendra87 28/11/2015
  4. asma khan asma khan 29/11/2015

Leave a Reply