“शुरुर”

एक अलग सा तलब होता है सच लिखने का मोबीन,,,

पसन्द कम लोग करते हैं, पर शुरुर सब पर चड़ता है।।

Leave a Reply