“माँ”

तू वह नीव ह जिसपे आज मेरी मुस्कराहट कड़ी ह ,
तू वह आँख ह जिससे मैने सपने देखे ह ,
तू वह उम्मीद ह जिसपे आज मेरे हौसले खड़े ह ,
तू वह वक़्त ह जो मझे सिर्फ बचपन दिखाता ह !!!!

3 Comments

  1. asma khan asma khan 26/11/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 26/11/2015
  3. Manjusha Manjusha 26/11/2015

Leave a Reply