शायरी

कभी मेरी लापरवाही मेरे लिए दर्द न बन जाए …
कभी मेरी मुस्कराहट एक फ़र्ज़ न बन जाए ..
डर मुश्किलो को झेलने मैं नहीं लगता मझे ..
डर लगता ह किसी की हमदर्दी क़र्ज़ न बन जाए !!

Leave a Reply