मुक्तक-सत्कार-शकुंतला तरार

मुक्तक-सत्कार

जहाँ हो बात फूलों की काटों से प्यार कर लेना
चाँद प्यारा है मावस पे मगर ऐतबार कर लेना
क्या हुआ आज का सुख कल नहीं होगा, न होने दो
दुखों का भी ख़ुशी से तुम मगर सत्कार कर लेना ।।
शकुंतला तरार रायपुर (छत्तीसगढ़)

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 22/11/2015
    • शकुंतला तरार 23/11/2015
  2. Girija Girija 22/11/2015
    • शकुंतला तरार 23/11/2015

Leave a Reply