मुक्तक-तिरंगा-शकुंतला तरार

मुक्तक-

जिंदगी में बड़े काम करते रहे
कुछ पुराने नए काम करते रहे
शान से ये तिरंगा फहरता रहे
अपना सर देश के नाम करते रहे
शकुंतला तरार रायपुर (छत्तीसगढ़)

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 22/11/2015
    • शकुंतला तरार 23/11/2015

Leave a Reply